Desi Chudai Kahani Padhe Online Free. Maa Ki Chudai, Bhabhi Ki Chudai, Teacher Ke Sath Sex, Bhabhi Ki Chut, Lund, Pyasi Bhabhi Ki Chut, Chudai,

मेरा नाम राकेश सिंह है। मेरी साली स्कूल में पढ़ाती है। मेरी साली को दो बेटियां हैं बड़ी बेटी का नाम तो पता नहीं पर घर में सब उसे गुड़िया ...

साली की कमसिन बेटी मेरे हत्थे चढ़ गई


मेरा नाम राकेश सिंह है। मेरी साली स्कूल में पढ़ाती है। मेरी साली को दो बेटियां हैं बड़ी बेटी का नाम तो पता नहीं पर घर में सब उसे गुड़िया ही कहते हैं, तथा छोटी बेटी का नाम रुचिका है।

एक बार मैं अपनी साली के घर गया, उस दिन हम लोग दोपहर में टीवी देख रहे थे। मैं मेरे साथ साली की बड़ी लड़की और एक पड़ोस का लड़का भी था.
टीवी के बगल में एक छोटा सा शीशा लगा हुआ था जिस में सिर्फ मैं ही देख पा रहा था मैंने देखा कि मेरे पीछे खडा लड़का अपना हाथ मेरी साली की बेटी गुड़िया के टॉप में घुसा रहा है और उसकी छोटी छोटी चूचियों को दबा रहा है।

यह नजारा देख कर मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया. मैं शीशे में देखता रहा और उसका मैं मोबाइल से वीडियो बनाने लगा। वह लड़का काफी देर तक मेरी साली की बेटी गुड़िया की चूचियों से खेलता रहा फिर वे अलग हो गए। मैं कम से कम 10 मिनट का वीडियो बना चुका था. फिर प्रोग्राम खत्म हो गया और वह लड़का अपने घर चला गया.

शाम को गुड़िया बोली- मौसा जी, मुझे आइसक्रीम खाना है, चलो बाजार चलते हैं।
मैं स्कूटर पर साली की बेटी गुड़िया को लेकर चल दिया.



जब हम लोग बाजार पहुंचे तो मैंने उसकी मनपसंद आइसक्रीम गुड़िया को दिलवा दी। गुड़िया आइसक्रीम को बहुत मजे से जीभ निकाल निकाल कर चूस रही थी जिसे देख कर मुझे ऐसा लग रहा था जैसे वह मेरा लंड चूस रही हो।
उसे आइसक्रीम खाते देख कर मुझे बहुत मजा आ रहा था.

फिर जब हम लोग शाम को वापिस आ रहे थे मार्केट से, तब थोड़ी सी रात हो गई थी। मैं गुड़िया को एक सुनसान जगह पर ले गया और मैंने गुड़िया को अपने मोबाइल में रिकॉर्ड हुआ वीडियो दिखाया।
गुड़िया वह वीडियो देखकर काफी डर गई और मुझ से रिक्वेस्ट करने लगी- मौसा जी, आप यह बात मेरी मम्मी पापा को मत बताना।
मैं बोला- इस से मुझे क्या फायदा होगा?
वह बोली- आप मेरे साथ जो मन करें वह कर लीजिए; लेकिन मेरे मम्मी पापा को मत बताइए।

गुड़िया एक बहुत कमसिन और खूबसूरत लड़की थी. मैं गुड़िया से बोला- जिस तरह से तुम आइसक्रीम चूस रही थी उसी तरह तुम मेरे लंड को चूस कर उसका माल पी जाओ तो मैं तुम्हारी मम्मी से कुछ नहीं कहूंगा।
गुड़िया बोली- ठीक है.
उसके बाद मैंने अपना लंबा और मोटा लंड निकाल कर गुड़िया को दिखाया जो पूरा खड़ा हो गया था।

गुड़िया वहीं नीचे जमीन पर बैठ गई और मेरे लंड को अपनी जीभ से चाटने लगी। मेरा लंड पूरा खड़ा हो चुका था, मैं उसके सर को पकड़ कर अपने लंड पर दबाने लगा और उसके मुंह को चोदने लगा। उसका छोटे से मुंह में मेरा मोटा लंड पूरी तरह नहीं घुस पा रहा था फिर भी मुझे बहुत मजा आ रहा था।

करीब 10 मिनट तक मैं उस नवयौवना लड़की के मुंह को चोदता रहा तब जाकर मेरा माल निकल गया।
मैं गुड़िया को बोला- पूरा पी जाना मेरी रानी गुड़िया!
गुड़िया मेरा पूरा माल पी गई।

उसके बाद मैंने उसको उठाया और उस के चेहरे को कुछ तक किस किया, उसके पतले होंठों को जी भर के चूसा और चाटा, खूब मजा लेकर फ्रेच किस किया.
फिर उसकी टॉप को हटाकर उसको चूचियों को बहुत देर तक चूसा. उसकी चूचियों को चूसने में इतना मजा आ रहा था कि मेरा लंड फिर खड़ा होने लगा। उसकी चूचियां छोटी-छोटी नारंगी के आकार की थी जो पूरा मेरे मुंह में आ जाती थी, मैं उसकी चूचियों को पूरा चूस रहा था और उसके निप्पल को काट भी रहा था।

मेरा लंड फिर पूरा खड़ा हो चुका था, अब मैंने उसे स्कूटर के सहारे झुका दिया और उसकी कमसिन बुर पर अपना लंड रगड़ने लगा। फिर मैं उसको बोला- गुड़िया रानी, थोड़ा सा दर्द होगा, तुम बर्दाश्त कर लेना।
गुड़िया बोली- ठीक है!

फिर मैंने उसकी बुर पर थोड़ा सा थूक लगाया और अपना लंड उसकी बुर पर सेट करके धीरे से धक्का लगाया; लंड उसकी बुर में घुस गया; उसे बहुत दर्द हुआ लेकिन वह बर्दाश्त कर गई।
फिर मैं धीरे-धीरे धक्का लगाने लगा; उसे बहुत दर्द हो रहा था; वह धीरे-धीरे रो रही थी लेकिन बर्दाश्त कर रही थी.

कुछ देर के बाद उसे भी मजा आने लगा और वह अपनी गांड हिला हिला कर बुर चुदाई करवाने लगी। मुझे गुड़िया को चोदने में इतना मजा आ रहा था कि जितना लाइफ में मुझे आज तक किसी के साथ मजा नहीं आया था.
मैं पंद्रह मिनट तक गुड़िया को कभी आगे झुका कर कभी स्कूटर पर बिठा कर तो कभी कुतिया बना कर पेलता रहा; गुड़िया भी बुर चुदाई का मजा लेती रही।

इस के बाद मैंने उसे बिठा दिया और लंड उसके मुंह में डाल कर पेलने लगा। कुछ देर मुंह में लंड पेलने के बाद मैंने पूरा माल उसके मुंह में गिरा दिया. गुड़िया पूरा माल पी गई.

फिर हम लोग घर चले आए।

दूसरे दिन घर पर कोई नहीं था मैं और मेरी साली की बड़ी बेटी घर पर थे। दोपहर में मैंने गुड़िया को अपने रूम में बुलाया और बोला- आओ मेरी गुड़िया रानी, थोड़ा मेरा लंड चूस दो।
यह कह कर मैंने उसके टॉप और स्कर्ट को उतार दिया और सिर्फ ब्रा और पैंटी में मेरे सामने वह खड़ी थी। उसकी छोटी छोटी चूचियों को देख कर मेरा लंड पूरी तरह से खड़ा हो गया था। वह बैठ कर वह मेरे लंड को चूसने लगी.

लंड चुसवाने में मुझे इतना मजा आ रहा था कि मैं उसको मुंह में लंड पेलने लगा; उसके मुंह में भी मुझे खूब मजा आ रहा था. दस मिनट तक गुड़िया बेटी मेरा लंड चूसती रही। फिर मैंने लंड को उसके मुंह से निकाल दिया और उसकी ब्रा और पैंटी भी निकाल दी. अब वह मेरे सामने पूरी नंगी खड़ी थी।

मैं भी पूरा नंगा हो गया और मैं किचन से मक्खन लेकर आया और उसके बुर चुची और होठों पर मक्खन लगा दिया फिर मैं उसके कमसिन बदन को चाटने लगा, उसकी छोटी-छोटी चूचियों को चूसने में इतना मजा आ रहा था, लग रहा था कि मेरा लंड पानी छोड़ देगा। काफी देर तक मैं उसके पूरे बदन को चाटता रहा, उसके होठों को बहुत देर तक चूसा फिर उसके निप्पल को दाँतों से काटता रहा.

बाद में जब मैं उसकी बुर को चाटने लगा तो उसे इतना मजा आने लगा की वह बुरी तरह से सिसकारियां लेने लगी। फिर कुछ देर में ही वह झड़ गई.

फिर मैंने अपने लंड को उसकी छोटी सी बुर पर लगाया और धक्का लगाया। गुड़िया बिटिया एक बार मुझसे चुद ही चुकी थी इसलिए थोड़ी ही देर में पूरा लंड उसकी बुर में घुस गया, उसको थोड़ा थोड़ा दर्द हुआ जिसे वह बर्दाश्त कर गई।
मैं कुछ देर तक तो उसकी बुर को आराम से चोदता रहा, फिर मैं उसे स्पीड में चोदने लगा और मेरा लंड ने पानी छोड़ दिया.

फिर हम लोग आराम करने लगे.

कुछ देर के बाद मैं गुड़िया से बोला- कैसा लगा बेटी रानी? मजा आया मेरे लंड से बुर चुदाई करवा के?
गुड़िया बोली- मौसा जी, शुरू शुरू में तो दर्द हुआ लेकिन बाद में बहुत मजा आया.

मैं बोला- गुड़िया रानी, अब मैं एक बार अब तुम्हारी गांड भी मारना चाहता हूं।
गुड़िया डर गई, वह बोली- मौसाजी, मेरी गांड का छेद बहुत छोटा है उसमें आपका इतना मोटा लंड नहीं जाएगा.
मैं बोला- रानी, डरो मत… मैं तुम्हारी गांड में पूरा तेल लगा दूंगा और अपने लंड पर भी पूरा तेल लगा दूंगा। फिर मैं तुम्हारे अंदर डालूंगा तो आराम से चला जाएगा.
गुड़िया बोली- ठीक है मौसा जी, लेकिन मुझे ज्यादा दर्द मत देना!

उसके बाद मैंने उसके होठों को चूस कर और चूचियों को मसल कर फिर गर्म किया ताकि उसको कम दर्द हो। फिर मैं उसकी गांड के छेद में तेल लगाकर कुछ देर तक उंगली करता रहा ताकि छेद चौड़ा हो जाए। उसके बाद मैंने उसे टेबल के सहारे कुतिया की तरफ झुका दिया, उसकी गांड के छेद पर अपना लंड लगाया और हल्का हल्का दबाव दिया। मेरा लंड उसकी गांड को फाड़ता हुआ उसकी गांड में घुस गया.
वह दर्द से चिल्लाने लगी तो मैंने उसका मुंह दबा दिया और धीरे-धीरे धक्का लगाने लगा।

5 मिनट के बाद ही वह शांत हो गई, अब उसे भी मजा आने लगा था, मैं काफी देर तक गुड़िया बेटी की गांड मारता रहा फिर मैं उसकी गांड में ही झड़ गया.

मुझे उसकी गांड मारने में चूत मारने से भी ज्यादा मजा आया और उस दिन मैंने उसकी तीन बार गांड मारी और उस दो बार बुर की चुदाई की.

0 comments: