Desi Chudai Kahani Padhe Online Free. Maa Ki Chudai, Bhabhi Ki Chudai, Teacher Ke Sath Sex, Bhabhi Ki Chut, Lund, Pyasi Bhabhi Ki Chut, Chudai,

हैलो एवरी वन.. मेरा नाम राहुल है.. मैं अपनी रियल इंडियन सेक्स स्टोरी desi chudai kahani पर शेयर करने जा रहा हूँ। मैं अमदाबाद गुजरात का रह...

इंडियन सेक्स स्टोरी अमीरजादी की चूत की खुजली की


हैलो एवरी वन.. मेरा नाम राहुल है.. मैं अपनी रियल इंडियन सेक्स स्टोरी desi chudai kahani पर शेयर करने जा रहा हूँ। मैं अमदाबाद गुजरात का रहने वाला हूँ।
ये उन दिनों की बात हैं जब मैं कॉलेज में पढ़ाई कर रहा था।

मुझे जंक फ़ूड खाना बहुत पसन्द है इसलिए मैं थोड़ा स्थूल जिस्म का हूँ और मेरा लंड 6 इंच का है।

अब मैं अब आपको अपना पहला सेक्स अनुभव बताने जा रहा हूँ।

मैं कॉलेज बस से जाया करता था.. मैं रोज सुबह नौ बजे बस स्टॉप पर खड़ा रहता था और सवा नौ वाली बस को यूनिवर्सिटी के लिए पिक करता था। ये ऑफिस टाइम भी होता था तो उस बस में भीड़ बहुत होती थी। मुझे रोज बस में एक लड़की मिलती थी.. उसकी फीगर साइज़ करीब 36- 32- 36 के आस पास थी।

मैं बस में हमेशा लास्ट वाली सीट के आस पास ही खड़ा रहता था.. और वो लड़की भी ज़्यादातर लास्ट में ही बैठती थी। रोज में उसे देख कर उससे फ्रेंडशिप का मन बनाता था.. और मन ही मन उसे चोदता था।
कई बार तो घर पर आकर उसे याद कर के मुठ्ठ भी मार लिया करता था।

वो भी धीरे धीरे मुझे जानने लगी थी.. क्योंकि मैं रोज उसे घूरता रहता था। एक दो बार तो मैंने उसे स्माइल भी दी.. पर उसने अपना मुँह फिरा लिया।
ऐसे एक बार मुझे मौका मिल ही गया, बस में बहुत भीड़ थी, वो लास्ट में खड़ी थी और मैं भी उसके पीछे खड़ा हो गया। धीरे धीरे बस में भीड़ और ज़्यादा हुई और बस पूरी भर गई। मैं सबसे लास्ट में था और वो आगे थी। आगे से धक्के आ रहे थे और सब लोग पीछे की ओर जा रहे थे।



ऐसे ही एक जोर से धक्का आया और वो पीछे की ओर आई और उसका हाथ मेरी बॉडी पर लगा.. जैसे मुझे कोई करेंट लगा हो.. वैसा मुझे महसूस हुआ।
उसने ‘सॉरी’ बोला.
फिर वापिस एक और जोर का धक्का आया और उसका हाथ मेरे पैन्ट की चैन पर लगा।
मुझे तो जोर से करंट लगा और मेरा लंड खड़ा होने लगा। वो फिर ‘सॉरी’ बोली और थोड़ा शरमाई। उसके बाद मेरी हिम्मत बढ़ी.. मैं भी मौके का फायदा उठाने लगा।

मैं अब पीछे से उसको धक्के देने लगा और उसके करीब चिपकने लगा। एक दो बार उसने मेरी ओर देखा और मुँह फिरा लिया।
मैंने उसकी गांड पर भी हाथ घुमा लिया। यारो, बहुत ही टाइट गाण्ड थी उसकी। मेरा लंड अन्दर ही अन्दर तड़पने लगा और पूरा खड़ा हो गया।
अब मेरा खड़ा लंड भी उसकी गाण्ड से टकराने लगा। मुझे तो मजा आ रहा था.. उसको भी धीरे धीरे पता चलने लगा कि उसकी गाण्ड पर कुछ टकरा रहा है।

एक और धक्का आया और वो फिर पीछे की ओर आई.. उसने अपना हाथ पीछे किया तो मेरा खड़ा लंड उसके हाथ में आ गया। उसने तुरंत छोड़ दिया और मेरी ओर देखा और कुछ नहीं बोली।
मेरा लंड पूरा खड़ा था तो उसे भी अहसास होने लगा था।

ऐसे ही करते करते उसका स्टॉप आया और वो उतर गई.. मैं पूरी दिन उसके ही बारे में सोचता रहा।

दूसरे दिन वो फिर मुझे मिली बस में… आज वो बैठी हुई थी और उसके पास में खाली जगह भी थी। आज शनिवार था तो बस में भीड़ कम थी। मैं उसके पास में जाकर बैठ गया और मौके का फायदा उठा कर मैंने हिम्मत की और उससे पूछा- आप क्या करती हो?
उसने बोला- मैं जॉब करती हूँ।
मैंने भी बताया- मैं कॉलेज में पढ़ाई करता हूँ.. फाइनल बी सी ए।
उसने कहा- ग्रेट…

उसने मुझे बताया कि वो भी कोई सॉफ्टवेयर कंपनी में डॉक्यूमेंटेशन करती थी। और ऐसे हम लोग सॉफ्टवेयर की बातें करने लगे। धीरे धीरे मैंने उसे उसका ईमेल आई डी पूछा.. उसने अपनी याहू आई डी दी।
बाद में हम लोग चैट पर बातें करने लगे।

बातें करते करते हम लोग सेक्स के बारे में भी बातें करने लगे.. उसने बताया कि उसने सेक्स किया हैं उसके फ्रेंड के साथ।
मैंने भी जो सच था वो बता दिया- मैं अभी वर्जिन हूँ।
तो वो थोड़ा हँसने लगी और बोली- इतने टाइट हो और अभी तक वर्जिन?
मैंने पूछा- क्या टाइट है?
उसने बात घुमा दी..

मुझे मालूम था कि उसने बस में मेरे लंड को टच किया था तो उसे पता था कि मेरा लंड कितना टाइट है। हम लोगों ने कामसूत्र सेक्स पोजीशन्स और सेक्स के बारे में बहुत बातें की।
ऐसे ही बात करते करते मैंने उसे उसका मोबाइल नम्बर पूछा.. उसने मना कर दिया।

मैंने बहुत फ़ोर्स किया.. तो उसने बोला- नेक्स्ट शनिवार को दे दूँगी।
और शनिवार आ गया तो मैंने पहले नम्बर ही माँगा… उसने उसका एड्रेस लिखा चैट में और बोला- नम्बर क्या जान.. मिलने ही आओ।

मैं तो पहले सोच में पड़ गया पर फिर मैं शाम को करीब 7 बजे उसके घर पर चला गया।

वो बहुत ही रिच फैमिली की थी और बहुत ही बड़ा पाश एरिया में उसका बंगला था।

मैंने कॉल बेल बजाई.. वो आई.. उसने कॅप्री और टी-शर्ट पहना हुआ था। टी-शर्ट में से उसकी मस्त रसीली चूचियाँ साफ़ साफ़ दिख रही थीं।
उसने मुझे मुस्कुरा कर अन्दर बुलाया.. मैं भी मुस्कुराता हुआ अन्दर चला गया।
बहुत ही अच्छा सुन्दर घर था.
वो पानी लेकर आई और बोली- लो पानी पियो।

मैंने बोला- आप बहुत ही सुंदर लग रही हो।
उसने कहा- बस सुंदर?
मैंने कहा- आप बहुत सेक्सी लग रही हो।

वो मुस्कुराने लगी और बोली- मैं आपको एक सीक्रेट बताऊँ?
मैंने कहा- हाँ बताओ।
वो बोली- मैं मैरिड हूँ।

मैं ये सुन कर थोड़ा हैरान हो गया।
उसने बताया कि उसके पति और वो यहाँ रहते हैं। वो ज़्यादातर आउट ऑफ इंडिया ही रहते हैं तो सिर्फ टाइम पास के लिए वो जॉब करती है वैसे उसे जॉब करने की जरूरत नहीं है पैसे के लिहाज से!

मैंने पूछा- तो फिर आप कार से ऑफिस क्यों नहीं जाती हो?
उसने बोला- कार से जाती… तो आप जैसे अच्छे फ्रेंड नहीं मिलते ना।
मैं मन ही मन उसके इरादे समझ गया।

फिर मेरी हिम्मत खुल गई और मैंने बोला- पति नहीं हैं… तो क्या हुआ हम तो हैं ना.. हमें टाइम पास करने के लिए बुला लिया करो।
वो आँखें नचा कर थोड़ा मुस्कुराई और बोली- छी: गंदे..

फिर उसने पूछा- तुम क्या लोगे?
मैंने डबल मीनिंग में बोला- तुम क्या दोगी?
वो भी समझ गई और बोली- जो तुम्हें लेना हैं.. वो दूँगी।

मेरी और हिम्मत बढ़ी और मैंने उस दिन वाली बात की। मैंने कहा- आप उस दिन चैट में कह रही थीं कि मेरा वो क्या टाइट है?
उसमें मुस्कुरा के बोला- बच्चे… वो ही जो बस में मैंने टच किया था।
मैं मन ही मन खुश होने लगा कि आज लंड को इसकी चूत चोदने को मिलेगी, मैंने अनजान होते हुए पूछा- वो क्या हुआ था बस में?
उसने बोला- अभी इतना भी मत बनो।
मैंने बोला- नहीं.. सच्ची मुझे याद नहीं.. आप बताओ न।
तो उसने बोला- तुम्हारा वो पेनिस बड़ा टाइट है।

मैंने बोला- यार हिन्दी में क्या कहते हैं उसे?
वो बोली- ओ के.. बाबा.. तुम्हारा लंड बड़ा टाइट हैं.. जिस दिन से उसे टच किया हैं.. मैं रात को उसके ही बारे में सोचती हूँ कि वो अन्दर से इतना टाइट था.. तो रियल में कैसा होगा।
मैंने तुरंत बोल दिया- लो तो आज आपको दिखाए देता हूँ.. आप उसे देख कर अच्छी तरह से रोज सो तो पाओगी।

वो तुरंत मेरे पास आई और मुझे किस करने लगी, मैं भी उसे किस करने लगा, उसके होंठ थोड़े मोटे और रसीले थे.. किस करते करते उसका हाथ मेरे लंड पर चला गया। वो मेरी पैन्ट के बाहर से ही मेरे लंड को सहलाने लगी। मैं भी उसकी चूचियों को टच करने लगा। उसकी चूचियां काफी बड़ी बड़ी लग रही थी लेकिन दबाने में गुबारे की तरह नर्म लग रही थी.
फिर मैंने उसकी चूचियों को जब जोर से मसला तो उसकी आहें निकलने लगी.

अब मैंने नीचे से उसकी टीशर्ट में हाथ डाला और ब्रा के ऊपर से चूचियों को सहलाने लगा.
उसने भी मेरी पैन्ट की जिप खोल ली और अपना हाथ अन्दर डाल दिया.
लेकिन इस तरह से हम दोनों को ही मजा नहीं आ रहा था तो मैंने उसकी टीशर्ट ऊपर करके निकाल दी. उसकी ब्रा में फ्रंट हुक था, मैंने वो हुक भी खोल दिया तो उसकी दोनों चूचियां पूरी नंगी हो गई. उसने अपनी ब्रा अपनी बांहों से उतार कर रख दी और मुझसे बोली- यार हुक खोल कर पैन्ट उतार… मुझे तेरा लंड देखना है.

धीरे धीरे उसको पूरी तरह से नंगी कर दिया और उसने भी मुझे। उसकी चूत एकदम क्लीन थी जैसे आज ही शेव की हो। मतलब साफ़ था कि उसकी चूत में खुजली हो रही थी और उसने सोच समझ कर पूरी तैयारी के साथ मुझे बुलाया था अपनी चूत चुदवाने के लिए!

मेरे लंड के आस-पास थोड़े हेयर थे.. मैंने एक बुक में पढ़ा था कि लंड के हेयर सेक्स के टाइम पर लड़कियों की चूत से टकराएं तो लड़की को चूत में बड़ा आनन्द मिलता हैं।

उसने मुझे बोला- हमने जैसे चैट की थी, वैसे ही हम कामसूत्र के आसन में करेंगे।

मैं पॉर्न मूवी बहुत देखता हूँ। सो पॉर्न में जैसे देखा था वैसे ही मैंने उसे नीचे बिठा दिया और लंड उसके मुँह में देने लगा तो उसने मुंह में ना लेकर खात में पकड़ा लिया और वो लॉलीपॉप की तरह उसे सहलाती और जीच निकाल कर ऊपर ऊपर से चाटने लगी। मुझे बड़ा ही मजा आ रहा था.

कुछ देर ऐसे चाटने के बाद उसने अपना मुंह पूरा खोल कर मेरा लंड अंदर ले लिया और मजा ले ले कर चूसने लगी. मैं भी उसके सर को पकड़ पकड़ कर अपना लंड अन्दर घुसेड़ रहा था।

यह मेरा फर्स्ट सेक्स था तो मैं जल्दी ही चरम सीमा पर आ गया, मैंने उससे बोला- यार, मैं तो पानी छोड़ने वाला हूँ।
उसने इशारे से बोला- मेरे मुँह में ही डाल दो।
मैंने एक लम्बी “आह्ह..” के साथ धार छोड़ दी.. उसने मेरे लंड को होंठों में कस कर जकड़ लिया और वो मेरा पूरा पानी पी गई। फिर मेरा लंड उसने चाट चाट कर साफ़ कर दिया.
अब मेरा लंड पिचक कर लुल्ली बन चुका था.

अब वो सोफे पर बैठ गई और उसने अपने दोनों पैर सोफे के ऊपर रखे और अपनी जांघें फैला दी। उसकी चूत खिल कर मेरे सामने आ गई. अब से पहले उसकी चूत के होंठ चिपके हुए थे, ऐसे बैठने से उसकी चूत के होंठ खुल गए और अंदर के छोटे होंठ बाहर दिखने लगे.
मैं सोफे के नीचे बैठ कर उसकी चिकनी चूत को चाटने लगा।

उसकी चूत की पखुड़ियों को खूब खींच कर चूसा और बाद में उसकी चूत में अपनी जीभ डाल कर चूत के अन्दर भी उसे चाटा.. वो एकदम इठ गई और झड़ गई।

बाद में मैंने उसे डॉगी स्टाइल में लेकर उसकी चूत में लंड डाला। उसकी चूत बड़ी टाइट थी।
मैंने पूछा- क्या फर्स्ट टाइम किसी गैर मर्द से चुद रही हो?
उसने बोला- पति के अलावा अभी तक किसी से नहीं किया, और पति से भी अभी तक आठ दस बार ही चुदी हूँ।

मैंने अपना लंड पूरा अन्दर धीरे धीरे घुसा दिया और मैं जोश में उसे चोदने लगा। वो भी मज़े ले रही थी। अब मैंने उसके बालों को पकड़ लिया.. और उसको खींचते हुए डॉगी स्टाइल में चोदने लगा.. जैसे कोई घोड़ा राइडिंग कर रहा हो।
बाद में वो बोली- मुझे ऊपर आना है।

वो मेरे लौड़े की सवारी की पोजीशन में आई और जोर जोर से मेरे लंड पर ऊपर नीचे होने लगी। मैं भी नीचे से उसे सपोर्ट देने लगा और उसके मम्मों को दबाने लगा।
ऐसे हम लोगों ने अलग अलग कई पोजीशनों में 4 बार चुदाई की। फिर हम दोनों ने साथ में बाथ भी लिया।

इसके बाद तो जैसे उसकी और मेरी निकल पड़ी थी। हम दोनों ने एक महीने तक हर शनिवार रविवार को खुल कर चुदाई की।

जब भी उसकी चूत में खुजली होती थी.. तो वो मुझे मैसेज या कॉल करती थी और मैं अपने लौड़े से उसकी खुजली को बुझा देता था।

0 comments: