Desi Chudai Kahani Padhe Online Free. Maa Ki Chudai, Bhabhi Ki Chudai, Teacher Ke Sath Sex, Bhabhi Ki Chut, Lund, Pyasi Bhabhi Ki Chut, Chudai,

मेरी सेक्स कहानी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि कैसे हम दोनों सहेलियों ने ट्रेन के केबिन में दो लड़कों से चुत चुदाई करवा कर अपनी कामुकता को...

लखनऊ से दिल्ली की ट्रेन में चुदाई का मजा-2


मेरी सेक्स कहानी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि कैसे हम दोनों सहेलियों ने ट्रेन के केबिन में दो लड़कों से चुत चुदाई करवा कर अपनी कामुकता को शांत किया.

चुदाई के बाद हम दोनों टॉयलेट गयी, जब हम दोनों सहेलियाँ अपने केबिन में वापस आई तो वे दोनों लड़के कपड़े पहन कर आपस में गपशप कर रहे थे. शिशिर ने उस अजनबी का परिचय देते हुए कहा- सबीहा डार्लिंग, ये मिस्टर सुनील हैं. ये एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं और दिल्ली तक जा रहे है.. और डार्लिंग ये हम लोगों का साथ दिल्ली तक देंगे.
“ओह मिस्टर सुनील.. आपसे मिलकर बहुत खुशी हुई.. शिशिर ये बहुत ही दमदार आदमी लगते हैं.” मैं मस्त होकर बोली. असल में मुझे शिशिर से चुद कर जितना मजा आया था, अब से पहले कभी नहीं आया था. मैंने अब से पहले भी 14-15 लौड़े लिए होंगे, जिनमें दो तो मेरे चचेरे भाइयों के थे, एक मेरे फूफाजान का था, एक मेरे पड़ोसी का था, एक मेरे स्कूल में पढ़ने वाले मेरे एक सीनियर का था. एक मेरे अब्बू के दोस्त ने भी मेरी चूत खूब चोदी थी. और भी थे… अब किस किस का नाम लूँ!

ट्रेन अपनी रफ्तार से चली जा रही थी. हम चारों लोग आपस में गपशप करते और साथ में छेड़खानी भी कर रहे थे. अभी हम चारों लोग नीचे की बर्थ पर ही थे. एक बर्थ पर मैं शिशिर के ऊपर लेटी थी और दूसरी बर्थ पर सलमा सुनील के ऊपर लेटी थी.

शिशिर मेरी चुचियों को छेड़ रहा था जबकि सुनील सलमा की गांड सहला रहा था. हम लोग एक दूसरे को देखकर मुस्कुरा भी रहे थे.



रात के 2 बज रहे थे. अब शिशिर मेरे गालों को चूमते हुए मेरी चुत के घने बालों को सहला रहा था और सलमा सुनील के लंड को सहला रही थी. सुनील भी उसके मम्मों को मसल रहा था, जिससे वह सिसक रही थी. तभी मेरा दिल सुनील के लंड के ख्याल से सुलग उठा. उसका लंड शिशिर के लंड से काफी तगड़ा था. शिशिर के लंड का मजा तो ले ही चुकी थी, अब मेरा मन सुनील के लंड से चुदवाने को बेकरार हो गया.

यह ख्याल मेरे मन में आते ही मैं बोली- मेरा ख्याल है कि अब हम लोग अपने अपने साथी बदल लें?

मेरी बात सुन कर सुनील मुस्कुरा कर मुझे घूरने लगा. उसके देखने के अंदाज से मैं समझ गई कि वह भी मेरी जवानी को चखना चाहता है.

मैं उसके घूरने पर मुस्कुराती हुई बर्थ से उठी तो वह फ़ौरन मेरे पास आया और मुझसे चिपक कर मुझे बोसे देने लगा. उसके बोसे मुझे मदहोश कर गये और मैं उससे चिपक गई. शिशिर और सलमा एक बर्थ पर चुपचाप बैठे हम दोनों को देख रहे थे. मैं सुनील के साथ खूब ‘आह ऊह..’ करके सिसियाते हुए मजा ले रही थी. हम दोनों एक दूसरे को होंठ पर बोसे कर रहे थे. सुनील मेरे नाज़ुक बदन को भींच कर मेरे होंठ चूमते हुए मेरे जम्फर को अलग करने लगा. मुझे इस वक्त अपनी पोशाक बहुत भारी लग रही थी. नंगे होकर ही चुदाई का असली मजा आता है.

कुछ देर में सुनील ने मुझे मादरजात नंगी कर दिया. उसने मेरे पीछे से चिपक कर मेरी गोरी गोरी चुचियों को पकड़ लिया और दबाने लगा. इस तरह से उसका लंड मेरी गांड पर चिपका था. मेरी सनसनी बढ़ने लगी. मैंने शिशिर और सलमा को देखा तो वे अलग अलग बैठे हमें ही देख रहे थे.

अब सुनील अपनी उंगली को मेरी चिपकी जांघों पर लाकर मेरी चुत सहलाने लगा था. तभी उसने मेरी चूत के दाने को मसला, तो मेरी चुत ने जोश में आकर फच से पानी बाहर फेंक दिया. मैं मस्त होकर चुत में लंड डलवाने को बेकरार हुई तो मैंने सुनील के कपड़े खोल कर उसे भी एकदम नंगा कर दिया.

याहल्लाह… पेंट अलग होते ही सुनील का लंड फ़ुदकने लगा. एकदम आयरन रॉड की तरह लग रहा था. उसका लंड अपने हाथ में लेकर मैं सहलाने लगी. सच में ये लंड शिशिर के लंड से काफी बड़ा था. मैं हाथ से लंड मुठियाने लगी और मैं सोच रही थी कि अब इस लंड से तो पहले से भी ज्यादा मजा आयेगा. तो सुनील मेरी चुत में उंगली करने लगा.

कुछ देर बद सुनील नीचे बैठा और अपना चेहरा मेरी जांघों के बीच ला मेरी चुत पर जीभ फ़िराने लगा.

ओह… चुत चुसवाने पर मैं गनगना उठी. वह अपनी जीभ को चुत के चारों तरफ़ फ़िरा कर चाट रहा था. वो मेरी झांटों को भी चाट रहा था. एक बार तो मुझे लगा कि अगर मेरी झांटें साफ़ होती तो मुझे आज ज्यादा मजा मिलता. मैं कामुकता से अपनी जांघों को फ़ैलाती चली गई. उसके थूक से मेरी चुत भीग गई थी और वह दाने को मुँह में लेकर चूस रहा था. शिशिर और सलमा अभी भी चुपचाप हम दोनों को देख रहे थे.

मैं सलमा से बोली- अरे सलमा, तुम क्या हम लोगों को ब्लू फिल्म की तरह देख रही हो? अरे क्यों मजा खराब कर रही हो. तुमको लंड की जरूरत है और शिशिर को चुत की. तुम शिशिर के लंड का मजा लो.
मेरे बोलने का असर उन दोनों पर हुआ, उन दोनों ने एक दूसरे को देखा, फ़िर शिशिर उठ कर सलमा के करीब हो गया और उसके गाल को चूम लिया. सलमा गाल पर चुम्बन पाकर मस्त हो गई और खड़ी होकर शिशिर से चिपक कर उसके होंठ चूमने लगी.

मैंने सुनील के चेहरे को अपनी चुत पर दबाया और उन दोनों को देखने लगी. वो दोनों भी अब एक दूसरे से लिपटे थे. शिशिर ने सलमा की कुर्ती के अन्दर हाथ डालकर उसकी चुचियों को पकड़ लिया था और सलमा ने शिशिर के लंड पर कब्जा जमा लिया था.

अगले कुछ ही वक्त में शिशिर ने सलमा को एकदम नंगा कर दिया.

सलमा की चुत पर घुंघराले बाल थे, जिनको शिशिर उंगली से सहलाने लगा. सलमा ने शिशिर के लिए अपनी जांघों को फ़ैलाया हुआ था.

तभी शिशिर ने उसे उठाकर बर्थ पर लिटा दिया. अब सलमा ने दोनों पैरों को चौड़ा किया तो सुनील की तरह शिशिर भी उसकी चुत पर झुकता चला गया. शिशिर अपनी जीभ निकाल कर सलमा की चुत को चाटने लगा. सलमा के पैर मेरी तरफ़ होने की वजह से नजारा एकदम साफ़ मिल रहा था. सलमा कमर उछाल कर चूत चटा रही थी.

फ़िर शिशिर ने अपनी जीभ सलमा की चुत में अन्दर पेल दी और सलमा को जीभ से फ़क करने लगा. सलमा अपनी चुत को शिशिर की जीभ पर नचाने लगी. सलमा की चुत के नमकीन रस को शिशिर मज़े से चाट रहा था.

इधर सुनील भी शिशिर की तरह मेरी चुत के पिंक होल में अपनी जीभ पेल कर मुझे टंग फक कर रहा था. शिशिर की तरह सुनील ने भी मेरी टांगों को फ़ैलाया हुआ था.

मैं जब बेकरार हो गई तो बोली- ओह सुनील डार्लिंग, अब चुत को चूसना खत्म करो और मेरी चुत में अपना लंड पेल दो.. नहीं तो मैं मर जाऊंगी.. आह जल्दी से चोद दो मुझे.

मेरी बात सुनकर सुनील ने अपने लंड को मेरी चुत पर सटाकर एक करारा शॉट मारा तो उसका लंड मेरी चुत को फाड़ता हुआ अन्दर जाने लगा.

मुझे दर्द हुआ तो मेरे मुँह से निकल पड़ा- हय राजा आराम से चोद लो… ओह तुम्हारा लंड तो शिशिर से बहुत मोटा है.. ज़रा धीरे धीरे पेलो डार्लिंग.. मैं कहीं भागी नहीं जा रही हूँ.

सुनील मेरी बात सुनकर रुक गया और मेरी चुचियों को दबाने लगा. वह लंड को मेरी चुत में डाले हुए मेरे दोनों मम्मों को दबा रहा था.

कुछ देर बाद मेरा दर्द कम हुआ और मजा आना शुरू हुआ, तो मैं नीचे से गांड उचकाने लगी. वह मेरी कमर के उछलने को देखकर समझ गया और धक्के लगाने लगा. कुछ पल में ही उसका लंड मेरी चुत की तह में ठोकर मारने लगा. सुनील के साथ तो अनोखा मजा आ रहा था. उसके पेलने के अंदाज से जाहिर हो रहा था कि वह चुदाई में माहिर बन्दा है. वह मेरे मम्मों को दबाते हुए चुत की तह तक हमला कर रहा था. मैं होश खो बैठी थी.

उधर चुत चूसने के बाद शिशिर सलमा की चुचियों को चूस रहा था. सलमा अपने हाथ से अपने मम्मों को शिशिर को चुसा रही थी.

सलमा ने शिशिर के कपड़े अलग कर दिए थे और उसके लंड को मुठिया रही थी. वह मेरी और देख कर बोली- ओह शिशिर देखो ना सुनील और सबीहा को कैसे मज़े से चोद रहा है.. तुम भी अब मुझे तरसाओ नहीं.. और जल्दी से मुझको चोद दो.

शिशिर ने सलमा के पैरों को अपने कंधे पर रखकर लंड को उसकी चुत पर रगड़ना शुरू किया तो सलमा बोली- ओह्ह हय मेरे राजा, क्यों मुझको तड़पा रहे हो.. हय जल्दी से मुझको चोद दो.

शिशिर ने अपने लंड को उसकी चुत पर लगा कर धक्का लगाया तो लंड उसकी चुत में चला गया.

सलमा ने शिशिर के चूतड़ों को दबाते हुए कहा- यस यस आह.. डालो.. पूरा लंड पेलकर चोदो.

वो दोनों एक दूसरे के अपोजिट धक्के लगाने लगे और इस तरह शिशिर का पूरा लंड सलमा की चुत में चला गया. सलमा की चुत के बाल उसके लंड के चारों और फ़ैल गए थे. शिशिर पूरा लंड पेल कर उसके मम्मों को मसलने लगा था.

इधर सुनील मेरी चुत में अपने मोटे लम्बे लंड को पुक्क पुक्क अन्दर बाहर कर रहा था और मैं हर धक्के के साथ सिसक रही थी.

शिशिर से चुदवाने से ज्यादा मजा मुझे उस अजनबी सुनील के साथ आ रहा था. मैं चुदवाते हुए दूसरी बर्थ पर भी देख रही थी. शिशिर मम्मों को मसलते हुए सलमा की चुत को चोद रहा था और वह नीचे से कमर उचकाते हुए शिशिर की गांड को कुरेद रही थी.

अब शिशिर सलमा की चुचियों को मुँह में लेकर चूसते हुए तेजी से चुदाई कर रहा था. सलमा मदहोशी में बोली- ओह शिशिर मेरे यार बहुत मजा आ रहा है.. हय और ज़ोर से चोदो. पूरा लंड जाने दो.. फाड़ दो मेरी चुत को.. चिथड़े उड़ा दो..

सलमा पूरे जोश में अपनी कमर उचका कर लंड का मजा ले रही थी. मैं उन दोनों की चुदाई का नजारा करते सुनील से चुदवा रही थी. सुनील ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाने लगा तो मुझे ऐसा लगा कि मेरी चुत से पानी निकल पड़ेगा.

ऐसा महसूस करते ही मैं सुनील से बोली- आह सुनील डार्लिंग मेरा निकलने वाला है.. राजा मेरी हेल्प करो.. तुम भी मेरे साथ ही अपनी मलाई मेरी चुत में ही निकालो.

सुनील पर मेरी बोली का असर हुआ और वह तेजी से चुदाई करने लगा. कुछ देर में ही मेरी चुत से फ़व्वारा चलने लगा और मेरे साथ ही सुनील के लंड की पिचकारी भी चल गई. उसकी पिचकारी के गर्म पानी से मेरी चुत भर दी.

जब मेरी चुत भर गई तो मलाई चुत से बाहर निकलने लगी. झड़ने के बाद हम दोनों एक दूसरे लिपट कर उखड़ी साँसों को काबू करने लगे. मेरा ध्यान फिर सलमा की तरफ़ गया. सलमा मदहोशी में कराह रही थी और कमर को हवा में लहराते हुए शिशिर से चुदवा रही थी. कुछ देर बाद जब सुनील अलग हुआ तो मैं उठकर सलमा के पास गई. मेरी चुत लंड के पानी से चिपचिपा गई थी और सुनील के लंड ने इतना ज्यादा पानी उगला था कि जांघें तक भीगी थीं. मैं ऐसे ही सलमा के पास गई और उसको होंठ पर चुम्बन करने लगी.

सलमा ने मेरी गरदन को अपने हाथों से पकड़ लिया और मेरे सिर को अपनी चुचियों पर लाने लगी. मैं समझ गई कि वह अपनी चुचियों को चुसवाना चाहती है. मैं उसके एक आम को मुँह में लेकर चूसने लगी. उसकी एक मोटी चुची को चूसते हुए मैं दूसरी को दबाने लगी. सलमा चूतड़ तेजी से उठाने गिराने लगी और शिशिर भी ज़ोर ज़ोर से धक्के देने लगा.

करीबन 20-22 धक्कों के बाद सलमा की गांड रुक गई. उसकी चुत से पानी गिरने लगा था. शिशिर ने भी दो चार धक्के और लगाए और सलमा के ऊपर लेटकर लम्बी लम्बी साँसें लेने लगा. उसका लंड भी गर्म लावा निकाल रहा था.

0 comments: